Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

कांग्रेस नेता कर्ण परमार ने कहा शाहपुर में कांग्रेस पार्टी का झंडा करना है बुलंद

1 min read

हिमाचल में देवभूमि के दंगल का काउंटडाउन शुरू हो चुका है, ज्यों-ज्यों इस साल के महीने बीतते जा रहे हैं त्यों-त्यों चुनावों में अपना भविष्य आजमाने को आतुर कई छोटे-बड़े नेता सियासी जमीन पर उतरकर लोगों के घर द्वार जाकर न केवल हाजरियां भर रहे हैं बल्कि उनकी चौखटों पर नुकड्ड दरवार भी सजा रहे हैं, इसी कड़ी में सियासी राजधानी कांगड़ा के शाहपुर विधानसभा क्षेत्र में पूर्व चेयरमैन और कांग्रेसी नेता कर्ण परमार ने मोर्चा संभाल लिया है और लगातार अब शाहपुर के चंगर, कबायली और पालम क्षेत्र में जा-जाकर नुक्कड़ सभाएं आयोजित करनी शुरू कर दी हैं, साथ ही ये एलान भी कर दिया है कि अब बहुत हो चुका इस मर्तबा उन्हें कांग्रेस टिकट दे या न दें वो चुनावी मैदान में उतर कर ही रहेंगे, और लगातार लोगों के घर द्वार जाकर उनसे सलाह-मशबरा और राय भी मांग रहे हैं, दरअसल लंबे अंतराल से कांग्रेस के लिये शाहपुर विधानसभा क्षेत्र पहेली बना हुआ है, कांग्रेसी बहुल इस क्षेत्र में हर बार कांग्रेस को अपनी विरोधी पार्टी भाजपा से ही गच्चा खाना पड़ रहा है, इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह उनके दो कद्दावर नेताओं मेजर विजय सिंह मनकोटिया और केवल सिंह पठानिया के बीच मनमुटाव की सियासी जंग है, जब भी कांग्रेस पार्टी मेजर मनकोटिया को टिकट देती है तो केबल पठानिया आजाद चुनाव लड़ते हैं और जब केबल को टिकट मिलती है तो मेजर मनकोटिया उन्हें हराने में जुट जाते हैं, और इसका सीधा लाभ भाजपा को मिलता है, नतीजतन बीते डेढ दशक से इस क्षेत्र में भाजपा लगातार जीत रही है, वक्त के साथ-साथ कांग्रेस के लिये इस सीट को बचाना अब और भी जटिल होता जा रहा है, इसलिये क्योंकि अब केबल और मनकोटिया से अजिज आ चुके उनके समर्थकों ने भी मैदान में उतरने का पूरा-पूरा मन बना लिया है, जिसका सीधा नुकसान भाजपा की बजाय कांग्रेस को होता नजर आ रहा है, दरअसल कर्ण परमार बीते पैंतीस सालों से राजनीति में सक्रिय हैं और पंचायती राज संस्थाओँ की चुनावी प्रक्रिया के जरिये जनता में खूब पैठ भी बनाई है, परमार मनकोटिया गुट के माने जाते रहे हैं, तो वहीं उनके कांग्रेस के दिग्गज रहे दिवंग्त नेता वीरभद्र सिंह समेत आज की मुख्यधारा के तमाम नेताओं के साथ भी कोई मनमुटाव नहीं है, कर्ण परमार की मानें तो शाहपुर में अगर कांग्रेस पार्टी का झंडा बुलंद करना है तो उन्हें चुनावी मैदान में उतरना ही होगा, शायद यही वजह है कि कर्ण परमार इस विधानसभा क्षेत्र से खुद को कांग्रेस पार्टी का प्रवल उम्मीदवार मानते हुये अब इस क्षेत्र की जमीन में अंदर ही अंदर घुन की तरह घुसते जा रहे हैं ताकि वक्त आने पर सार्वजनिक तौर पर अपना शक्तिप्रदर्शन करके तमाम सियासी दलों और उनके दिग्गज सियासतदानों को माकूल जवाब दिया सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2022 Designed and Developed by Webnytic
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)