Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

हिमाचल के जिला लाहौल स्पीति में मौजूद है चंडीगढ़ का सेक्टर 13 ,जाने क्या है पूरा माजरा 

1 min read

कभी आप ने सोचा है कि लाहौल स्पीति में भी चडीगढ़ का सेक्टर -13 भी हो सकता  है। लाहौल-स्पीति के एक गांव का नाम चंडीगढ़ सैक्टर-13 है। गांव के नाम के पीछे की कहानी काफी फिल्मी है और देश के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी और चीन सीमा विवाद से जुड़ा हुआ है। लाहौल-स्पीति के काजा उपमंडल से करीब 33 किलोमीटर दूर चंडीगढ़ सैक्टर-13 गांव बसा हुआ है। बीते कुछ सालों से इस गांव सैलानियों के लिए भी काफी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। 

बताया जाता है कि 80 के दशक में जब चीन सीमा पर विवाद बढ़ा तो स्पीति में बॉर्डर से सटे कौरिक गांव के ग्रामीणों को वहां से हटाना पड़ा। कहा जाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उस दौरान जब बॉर्डर का दौरा किया तो उन्होंने इस गांव के 33 परिवारों से वायदा किया कि उन्हें पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में बसाया जाएगा लेकिन किन्हीं वजहों से यह वायदा पूरा नहीं हो पाया। सेना ने फौरी तौर पर कौरिक गांव के इन परिवारों को सीमा से करीब 60 किलोमीटर पीछे जमीन देकर शिफ्ट कर दिया और पीडब्ल्यूडी के एक इंजीनियर ने इसे चंडीगढ़ नाम दिया।

रैवेन्यू रिकॉर्ड में भी इस गांव का नाम चंडीगढ़ दर्ज किया गया। बाद में ग्रामीणों ने इस गांव का नाम चंडीगढ़ सैक्टर-13 रखा क्योंकि चंडीगढ़ में सैक्टर-13 नहीं है। हालांकि अब हाल ही में चंडीगढ़ के मनीमाजरा में सैक्टर-13 बनाया गया है। लाहौल-स्पीति में हाईवे से सटा यह गांव अब टूरिस्टों के लिए आकर्षण का केंद्र रहता है।

CREDIT PUNJAB KESHRI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *