Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

ज़िंदगी में सिर्फ एक बार नहाती है यहां की महिलाएं ,सुन्दर दिखने के लिए पशुओं की चर्बी लगाती है 

1 min read

महिलाएं अपनी सुंदरता को लेकर कितना सजग रहती है ऐ बात सबको पता है और कभी न कभी आप भी महिलाओं की सवरने को लेकर गुस्सा जगजाहिर किए होंगे क्योंकि महिलाएं सुन्दर दिखने के लिए घंटो देर तक सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करती हैं।आकर्षण का केंद्र बनने के लिए महिलाएं अपनी खूबसूरती को बढ़ाने के लिए कई तरह के सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करती हैं लेकिन यह जानकर आपको आश्चर्य होगा कि एक ऐसा देश भी है जहाँ की औरतें और लड़कियां अपने जीवन में मात्र एक बार नहाती है फिर भी उन्हें खूबसूरत महिलाओं में गिना जाता है।  

नामीबिया की हिम्बा जनजाति की महिलाएं जीवन में सिर्फ एक बार नहाती है। यह सुनकर थोड़ा आपको अटपटा लगे, लेकिन यही सच है। हिम्बा एक ऐसी जनजाति है, जहां की महिलाएं जीवन में सिर्फ एक ही बार नहाने की परंपरा है। हिम्बा जनजाति उत्तरी नामीबिया में रहने वाले लगभग 50,000 लोगों की अनुमानित आबादी वाले स्वदेशी लोग हैं।  यह कुनेन क्षेत्र (अब काकोलैंड के नाम से पहचाना जाता है) अंगोला में कुनेन नदी के दूसरी तरफ मौजूद है। 
हिम्बा जनजाति की महिलाएं नहाने के बजाय विशेष जड़ी-बूटियों का प्रयोग करती हैं और इसके धुएं से अपने शरीर को फ्रेश रखती हैं।  इस जड़ी-बूटी की महक से उनके शरीर से अच्छी महक आती है और यह धुआं उनके शरीर को ताजगी देता है और कीटाणुओं को भी नष्ट करता है। ये महिलाएं शादी के दौरान  सिर्फ एक बार नहाती हैं।  दरअसल, इन महिलाओं को पानी छूने की भी मनाही होती है, इसलिए ये कपड़े भी नहीं धोती हैं यह परंपरा कई वर्षों से फॉलो करती हुई आ रही हैं।
इसके अलावा यहां की महिलाएं अपने शरीर को जानवरों की चर्बी और हेमटिट के घोल से बनी धूप से बचाने के लिए खास लोशन का इस्तेमाल करती है। हेमेटाइट के कारण उनकी त्वचा का रंग लाल हो जाता है।  ये खास लोशन उन्हें कीड़ों के काटने से भी बचाते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2022 | Newsphere by AF themes.
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)