Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

हमारा पहनावा हमारे व्यवहार को बदलता है, आइए जानते है कब और कहाँ कैसे कपड़े को पहनना चाहिए 

1 min read

हमारा देश खाने से लेकर पहनावा तक हर कुछ रंग बिरंगा है। चाहे त्यौहार हो या फिर शादी इनमे एक चीज कॉमन है वह है हमारे कपड़े। हम महंगे से महंगे कपड़े ख़रीदते है बस अच्छे दिखने के लिए। लेकिन कभी कभी हमसब ज्यादा ही अट्रैक्टिव दिखने के लिए कुछ गलतियां कर बैठते हैं जिससे अट्रैक्टिव तो दूर लोग बातें बनाना शुरू कर देते है। तो चलिए जानते है हमारे पहनावा से क्या फर्क पड़ता है और किस स्थिति में हमें क्या पहनना चाहिए जिससे आपका मूड भी रहे सही और आप बन भी जाए परफेक्ट स्टाइलिस्ट पर्सन ऑफ़ द डे

रंग का रखें ख्याल 

कपड़े का रंग हमारे इमोशन को दिखाता है। हमारा पहनावा हमारे व्यक्तित्व को दर्शाता है। एक अध्ययन में पता चला है कि हमारा व्यवहार हमारे परिधान के हिसाब से बदल जाता है। विज्ञान के अनुसार, हम जो पहनते हैं वो हमारे व्यवहार, दृष्टिकोण, स्वभाव, मनोदशा, आश्वासन और यहां तक कि हम दूसरों के साथ कैसे संवाद करते हैं, वो भी प्रभावित होती है। अगर आप मन और दिमाग को शांत रखना चाहते है तो अपने फेवरेट रंग को प्रयोग करें। चाहे आप कैजुअल पहन रहे है या फिर डिजाइन दार।

शूट बूट में ऑफिस जाते है तो शुक्रवार और शनिवार को पहने कैजु अल और कम्फर्टेबल कपड़े
अगर आप कोई बॉस है और शूट पहनकर ऑफिस जाते हैं तो हफ्ते की आखिरी दिनों में कैजु अल कपड़े को प्रेफर करें।  एक सर्वे से पता चलता है कि व्यक्ति शूट बूट में ज्यादा खुल नहीं पाता है। और एक दायरें में सिमित रहता है। जिसे अपने कमचारियों के साथ प्रगाढ़ रिस्ता नहीं बना पाता है। कैजुअल में आप खुल पाएंगे जिसे कर्मचारियों के काम काज पर भी पॉजिटिव इम्पैक्ट पड़ेगा।

फॉर्मल विथ जैकेट : आपका सेल्फ एसटीमड को बढ़ता है

अगर आप इंटरव्यू और फिर ऐसे जगह पर जा रहे हैं जहाँ आपको कॉन्फिडेंट दिखना है तो फॉर्मल पहन कर जाए। ऐसे परिधान से प्रभुत्व प्रदर्शित करने के लिए आवश्यक हार्मोन भी बढ़ जाते हैं। फॉर्मल आपका कॉन्फिडेंस लेवल को बढ़ाता है जिससे आपका आत्मसम्मान,बेहतर और रचनात्मक विचारक उभरकर सामने आते हैं।

पेशेवर कपड़े आपको गुड थिंकर बनता है  आपको गुड थिंकर बनाता है
मान लीजिए आप डॉक्टर हैं या फिर लैब टेक्निशियन और जब आप अपने ऑफिस जाते है तो लैब कोट लाना भूल जाते है? इससे आपके काम काज पर फर्क पड़ता है। उसी प्रकार आप जिस क्षेत्र से जुड़े है उसे जुड़े हुए परिधान जरूर पहने। इसे आप ज्यादा रचनात्मक होते हैं।

एक्सरसाइज के लिए जिम कपडे प्रेफर करें ,मेंटली आपको फ़ीट बनाता है
हम फ़ीट रहने के लिए बॉडी एक्सरसाइज करते हैं। जिम भी जाते हैं। लेकिन कभी कभी एक्सरसाइज के दौरान एक गलती कर बैठतें हैं। इस दौरान हम गलत कपड़े पहन लेते हैं जिससे फ्लेक्सिबिलिटी में कमी आती है। एक्सरसाइज के दौरान जिम कपड़े को पहने। जिम के कपड़े आपको मेंटली फिट और सौ प्रतिशत फ्लेक्सिबल बनाता है। और आप शारीरिक तौर पर फ़ीट तो रहेंगे ही इसके साथ बेहतर परफॉर्म और मेंटली भी फ़ीट रहेंगे।

अगर आप बुरे दौर से गुजर रहे हैं
अगर आप बुरे दौर से गुजर रहे है या फिर नाखुश, घबराए हुए या दबाव में होते हैं। तो ऐसे वक्त में डार्क एंड ब्राइट रंग के कपडे पहन सकते है। एक शोध के अनुसार ब्राइट रंग के कपड़े बुरे दिन से उबारने में मदद करती है। रंग जो खुशमिजाज होते हैं, छोटे पिक-अप के रूप में कार्य करते हैं, हमारे दृष्टिकोण और ऊर्जा में सुधार करती है। इसके अलावा, हम चमकीले रंगों को फन और लापरवाह से जोड़ कर देखते हैं और बुरे वक्त को भुलाने में मदद करती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2022 Designed and Developed by Webnytic
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)