Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

केन्या देश के राष्ट्रपति उम्मीदवार गांजा बेचकर देश का कर्जा चुकाएंगे

1 min read

राजनितिक उम्मीदवारों को  वोटरों को लुभाने के लिए लुभवाने वायदे तो जरूर सुने होंगे लेकिन पूर्वी अफ्रीका के केन्या में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जॉर्ज वजाकोयह  George Wajackoyah ने युवाओं का वोट पाने के लिए अजीबोगरीब वादा किया है. उन्होंने देश की सारी समस्याओं के समाधान गांजा सोलुशन के तौर पर भांग को वोटर्स के सामने रख रहे हैं. गांजा बेचकर देश की कर्जा ख़त्म करने की बात कही है. बता दे कि केन्या में राष्ट्रपति पद के चुनाव हो रहे हैं.वाइल्डकार्ड से एंट्री लेने वाले जॉर्ज वाजाकोयाह ( George Wajackoyah ) का सामना केन्या के दो अनुभवी लीडर्स रायला ओडिंगा और विलियम रुतो से है. कब्र खोदने वाले शख्स से लॉ प्रोफेसर बने जॉर्ज वाजाकोयाह चुनाव में सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोर रहे हैं. उनकी कैंपेनिंग का तरीका ही अलग है और उनका देश के 70 बिलियन यूएस डॉलर्स के कर्ज से निपटने का प्लान बिल्कुल ही अनोखा है. आमतौर पर कोई नेता इस तरह समाधान नहीं देता, जैसे जॉर्ज ने जनता को दिया है.

गांजा से दिलाएंगे कर्ज से मुक्ति
उन्होंने नो-फ्रिल्स अभियान की बात की है, जिसके ज़रिये चिकित्सा भांग उद्योग की स्थापना और लकड़बग्घे के अंडकोष सहित चीन को पशु अंगों का निर्यात करने की बात कही गई है. ऐसा करके वे केन्या के लगभग $ 70 बिलियन के कर्ज को खत्म करने का वादा किया है. 62 साल के वजाकोयाह चुनाव में सबसे चर्चित रहे हैं, क्योंकि उनकी पर्सनालिटी काफी अतरंगी है. वे नैरोबी के क्लब्स का जाना-माना चेहरा हैं और माना जा रहा है कि उन्हें युवाओं के वोट आकर्षित करने के लिए बड़े राजनेताओं द्वारा स्पॉन्सर किया गया है. हालांकि वे खुद इस बात से साफ इनकार करते हैं, यहां तक कि दावा करते हैं कि उन्हें दूसरे नेताओं ने समर्थन के बदले पैसे ऑफर किए हैं, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया है.

जॉर्ज का कहना है कि उन्होंने एक गांजा जनजाति का निर्माण कर दिया है और उनका सपना है कि वे राष्ट्रपति के दफ्तर में जाकर गांजा फूंकें. इस तरह वे साम्राज्यवाद से मुक्ति और गांजा के ज़रिये समाधान देने की बात करते हैं. उनका कहना है कि दूसरे नेताओं के पास हेलिकॉप्टर और महंगी गाड़ियां हैं, लेकिन उनके पास पोस्टर तक नहीं हैं. उनके समर्थक हाथ से पोस्टर बना रहे हैं. वैसे आपको बता दें कि केन्या अकेले ही गांजा के ज़रिये मुनाफा कमाने की बात नहीं कर रहा, इससे पहले थाइलैंड में भी सरकार ने घर-घर गांजा के पौधे देने की स्कीम लाई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2022 | Newsphere by AF themes.
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)