Nation Speaks

Ab Bolega Hindustan

उद्धव ठाकरे का दर्द छलका, बीजेपी चाहती तो महाविकास अघाड़ी बनती ही नहीं

1 min read
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना के चीफ उद्धव ठाकरे ने आज शिंदे कैबिनेट के मेट्रो कार शेड को रिलोकेट करने के फैसले का विरोध किया है | उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने मेट्रो कार शेड को आरे कॉलोनी रिलोकेट करने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि  मुंबई का पर्यावरण खराब मत करो |  आरे के एरिया  को हमने वन्यजीव संरक्षण के रूप में रिजर्व किया है | सत्ता पलट पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी को ये पहले ही कर लेना चाहिए था. कम से कम उसे अपना मुख्यमंत्री तो मिल जाता |

ढाई-ढाई साल शिवसेना और बीजेपी का सीएम होने की बात

मैंने अमित शाह से पहले भी कहा था कि शिवसेना का मुख्यमंत्री 2.5 साल होना चाहिए | अगर उन्होंने पहले ऐसा किया होता, तो कोई महा विकास अघाड़ी नहीं होती |
मैंने ढाई-ढाई साल शिवसेना और बीजेपी का सीएम होने की बात कही थी. आज शिवसेना का मुख्यमंत्री हो रहा है जो करार हुआ था | मेरी पीठ में छुरा घोंपा है, जनता की पीठ में मत घोंपना
मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने सत्ता में आने के कुछ घंटे बाद मंत्रिमंडल की बैठक की | कैबिनेट की मीटिंग में मुंबई मेट्रो लाइन-3 के आरे कॉलोनी में प्रस्तावित कार शेड को ट्रांसफर करने के फैसले को पलट दिया गया | इसपर उद्धव ठाकरे ने कहा कि मेरे लिए मुंबईकरों पर गुस्सा मत करो, मेट्रो शेड के प्रस्ताव में बदलाव न करें | मुंबई के पर्यावरण के साथ खिलवाड़ न करें |
गौरतलब है कि कल शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली | जबकि विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद बीजेपी के नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली | अब ऐसी बातें चल निकली हैं  कि आखिर सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद बीजेपी ने ऐसा क्यों किया? हालांकि, सूत्रों की मानें को निजी फायदे को देखते हुए पार्टी ने ये फैसला लिया है | पार्टी की मंशा है कि वो सत्ता के साथ-साथ ठाकरे परिवार से ‘शिवसेना’ भी छीन ले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2022 | Newsphere by AF themes.
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)